On Page SEO Full information

ON Page अपने आप में एक बहुत बड़ा Topic है ! ON Page का मीनिंग है वेबसाइट को Google के rules के according banana . ON Page SEO में हम अपनी वेबसाइट को edit करके उसे ऐसा बनाते है की Google उसे easily read कर सके और user भी वेबसाइट से ज्यादा से ज्यादा attract हो ! अब ON Page SEO में क्या क्या करते है , ये हम आपको बताते है –

On ~ Page SEO Steps –

1 . Website Speed 

अगर आपकी वेबसाइट की स्पीड 1 -5 सेकंड है तो आपकी वेबसाइट फ़ास्ट है !
2 . अगर आपकी वेबसाइट की स्पीड 5 -10 सेकंड है तो आपकी वेबसाइट average है – इसे improve करने की जरुरत है !
3 . अगर आपकी वेबसाइट की स्पीड 10 > सेकंड है तो आपकी वेबसाइट poor है – आपको immediate उसे ठीक करने की जरुरत है !

Kyu hoti hai Website ki speed slow :- जब हम अपनी वेबसाइट में बहुत साडी बड़ी बड़ी heavy images और बड़े Javascript Code भर देते है तो वेबसाइट की स्पीड स्लो हो जाती है क्योंकि image और JavaScript Code को लोड होने में बहुत समय लगता है ! तो कोशिश करे की images का size काम हो और JavaScript का कम से कम उसे हो !

2 . Title Tag :-

किसी भी वेबसाइट को रैंक करने के लिए Title टैग का बहुत important role है , आपका title जितना optimize होगा उतना ही ज्यादा benefit होगा !

Kaise Banaye Achha Title – Meta Title की लेंथ 70 characters से ज्यादा नहीं होनी चाहिए . कोशिश करे की title में आपका मैं keyword एक बार जरूर आये , सबसे धयान देने की बात ये है की आपके title में बार बार same keyword रिपीट न हो Because Google की नजरो में ये स्पैम है !

Example –
1 . India Tour । Tourist Places in India । Online Tours Packages – Good Title
2 . India Tour । India Touris । Best Indian Tour – Bad Title

3) . Meta Description :-

Meta Description का यूज़ करके हम Google को Describe करते है हमारी वेबसाइट किस subject पर है, जैसे – Sports पर है या Tourism पर है etc .

Kaise banaye accha description –

Meta Description ki lenght 160 characters से ज्यादा नहीं होनी चाहिए ! क्योंकि इससे ज्यादा Google read नहीं करता , Description में आप ज्यादा से ज्यादा Synonyms Words का यूज़ करिये और कोशिश करे की Main Keyword Description में जरूर आये !

4 ) Keyword Density :-

Keyword density भी एक बड़ा factor है, Keyword density का मतलब है की आपका Keyword कितनी बार आपके content में रिपीट हुआ है , Keyword density only 5 % होनी चाहिए ! इससे ज्यादा होगी तो आपकी Website के लिए harmful है !

5 ). Hidden Content :-

Appki Website में कोई hidden Content नहीं होना चाहिए , कई बार लोग अच्छी Rank के लिए Content पेज पर डाल देते है , लेकिन उसे hide कर देते है जिससे की जब कोई यूजर साइट पे पढ़ने आता है तो hide वाला Content नहीं देख पता ! Google ऐसे hidden Content से hate ( नफरत ) करता है !

6 ) Image Alt Tag :-

बहोत सरे लोग इस बात को नहीं जानते की Google Image को read नहीं कर पता . गूगल इमेज में लगे alt टैग से ये पता करता है की ये इमेज किसकी है !
Example – अगर आप virat kohli की फोटो अपनी वेबसाइट पर लगते है , पर इमेज में alt tag में virat kohli define नहीं करते तो Google को पता ही नहीं चलेगा की वो इमेज किसकी है !

7 ) . URL Structure :-

आपके पोस्ट के URL का लिंक आपको रैंक up करने में हेल्प करता है , पोस्ट का url ऐसा होना चाहिए जिससे पढ़कर Google को पता चल जाये की ये post किस topic से related है !

8 ) Internal Links :-

अपनी पोस्ट में कुछ other रिलेटेड पोस्ट के link भी लगाइये , but याद रखिये किसी पोस्ट में 5 से ज्यादा internal links ना हो Because ज्यादा लिंक यूज़ करने से रीडर्स confuse हो जाते है !

9 ) . Enable Gzip Compression :-

Gzip Compression यूज़ करने से आपकी साइट थोड़ी लाइट वेट हो जाती है , Gzip में आपकी Website के HTML , CSS , JavaScript कोड को Compress किया जाता है जिससे साइट का लोडिंग टाइम कम हो जाता है !

10 ) . Bold Important Keyword :-

आप जिस Keyword से अपनी पोस्ट को रैंक करना चाहते है उस Keyword को ” Bold ” tag में रखे . Bold means attention , Keyword bold करने से Google समझ जाता है की पोस्ट का फोकस किस Keyword पर है!

11 ) . Website Structure :-

अपनी वेबसाइट के लुक को यूजर फ्रेंडली बनाइये , बहुत सारे लोग अपनी वेबसाइट में बहुत छोटे फॉण्ट साइज यूज़ करते है , आज काल स्मार्ट फ़ोन का जमाना है और ज्यादातर लोग मोबाइल पर ही वेबसाइट ओपन करते है तो आपका font size atleast 15px तो होना ही चाहिए ! इसके अलावा Heading Tag Properly visible हो , आपकी साइट देखने में attractive लगनी चाहिए जिससे reader को पढ़ने में मजा आये !

12 ) Responsive Website :-

Responsive Website का मतलब होता है एक ऐसी वेबसाइट जो Mobile या Desktop किसी पर भी खुलते ही अपनी Height और Width device के according सेट कर ले ! Responsive Website पर मोबाइल readers को पढ़ने में कोई दिक्कत नहीं होती !

13 ) Heading Sequence :-

HTML में कुछ heading tag होते है – H1 , H2 , H3 , H4 , H5 , H6 . हमें इन हैडिंग टैग को यूज़ करते समय ध्यान देना चाहिए की इनको यूज़ करने का एक Sequence होता है !
सबसे पहले H1 फिर , H2 फिर , H3 ….. ऐसे Sequence होना चाहिए , कुछ लोग उल्टा सीधा तरीका इस्तेमाल करते है जैसे – H1 फिर ,H3 फिर , H1 फिर H2 ,…. ऐसे करते है but ये तरीका बिलकुल गलत है और SEO के लिए Harmful है !

14 ) . Post Length :-

जितना ज्यादा आप information देंगे उतना आपकी Rank जल्दी आएगी , अपनी पोस्ट की lenght badhane का मतलब ये नहीं की आप कुछ भी लिखते रहे , पोस्ट में Informative Content होना बहुत जरुरी है , कोशिश करे की आपकी पोस्ट में atleast 1000 Words हो !

15 ) Sitemap :-

Sitemap एक टाइप का मैप होता है जिसे पढ़कर Google को आपके वेबसाइट की सारी पोस्ट का structure पता चल जाता है , जब Google किसी Website को read करता है तो सबसे पहले Google का crawler sitemap .xml नाम की फाइल को सर्च करता है , अगर ये फाइल crawler को मिल जाये तो easily वो पूरी website को Crawl kar लेता है , otherwise crawler को आपकी वेबसाइट के सरे pages तक पहुचने में problem होती है इसलिए अपनी वेबसाइट पे sitemap जरूर लगाए !

 

source by

Advertisements